रविवार, 24 अक्तूबर 2010

जठराग्नि तुम्हें सारे अधिकार देती है।


जठराग्नि तुम्हें सारे अधिकार देती है।

भूखे हो? हाथ खाली हैं?
जिनके हाथ भरे हैं उनसे लो, छीनो, खाओ,
कोई पाप न लगेगा।
घबराओ मत, भूख तुम्हें सारे अधिकार देती है ।

जीने का अधिकार सबको है,
प्राकृतिक सम्पत्ति और उनसे जनित सारी सम्पत्तियों पर
सबका बराबर अधिकार है ।

भूखों! उठ्ठो!
खा जाओ समाज में फैली सारी असमानताओं को।

धर्म, नारी-मुक्ति, दलित-मुक्ति के नाम पर
राजनितिक  व्यापार करने वालों,
पहले क्षुधा-मुक्ति दिलाओ,
नहीं तो एक दिन यही भूख तुम्हें निगल जायेगी,
खा जायेगी तुम्हारी सत्ता को।

और डार्विन, एक दिन भगत फिर पैदा होगा 
और तेरे उस "सर्वाइवल ऑफ द फिटेस्ट" वाले 
कुरूप सत्य को झुठला कर चला जायेगा।   – प्रकाश 'पंकज'

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.