सोमवार, 15 मार्च 2010

भगत गुरु सुखदेव भजो तुम भगत गुरु सुखदेव !


 मानव धर्म पराकाष्ठा
...........भगत गुरु सुखदेव !
राष्ट्र धर्म पराकाष्ठा
...........भगत गुरु सुखदेव !
पुत्र धर्म पराकाष्ठा
...........भगत गुरु सुखदेव !
बन्धु धर्म पराकाष्ठा
...........भगत गुरु सुखदेव !

भगत गुरु सुखदेव भजो तुम
...........भगत गुरु सुखदेव !

परिभाषा है
जागृति की
...........भगत गुरु सुखदेव !
परिभाषा
है क्रांति की
...........भगत गुरु सुखदेव !
परिभाषा
संग्राम की
...........भगत गुरु सुखदेव !
परिभाषा
बलिदान की
...........भगत गुरु सुखदेव !

भगत गुरु सुखदेव भजो तुम
...........भगत गुरु सुखदेव !

प्रतारितों का त्राण है
...........भगत गुरु सुखदेव !
ज्वलित क्रांति का प्राण है
...........भगत गुरु सुखदेव !
स्वतंत्रता की आन है
...........भगत गुरु सुखदेव !
अमर-अमिट बलिदान है
...........भगत गुरु सुखदेव !

भगत गुरु सुखदेव भजो तुम
...........भगत गुरु सुखदेव !

-प्रकाश 'पंकज'

4 टिप्‍पणियां:

  1. कोई न चाहे पुत्र बने निज भगत गुरु सुखदेव.
    नेता जी से पूछो भाई .
    व्यापारी से पूछो भाई .
    अधिकारी से पूछो भाई .
    न्यायमूर्ति से पूछो भाई
    वकील साब से पूछो भाई
    सब चाहें केवल यश गाना.
    भाषण देना चित्र छपाना.
    कोई न चाहे पुत्र बने निज भगत गुरु सुखदेव.
    Acharya Sanjiv Salil

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम त इहाँ आए थे कि अपना बात कहेंगे लेकिन हमरे नाम वाले आचार्य जी का बात सुनकर मन अऊर द्रवित हो गया... आपका कविता अऊर आचार्य जी का टिप्पणी, हमको अवाक् कर दिया!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर परिभाषा और
    सुंदर अभिव्यकिती

    और आचार्य जी टिप्पडी भी बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.