रविवार, 19 जून 2011

भारत बनाम भ्रष्टाचार: जन की गुहार जन-लोकपाल


http://www.indiaagainstcorruption.org/
एक चतुर नाग,
करे शत-प्रहार,
मुँह फाड़-फाड़,
डँसे बार-बार।
जन चीत्कार करे बार-बार,
मचे हाहाकार,
आह! अत्याचार
ये दण्डप्रहार के बहाने हजार,
ये लोकाचार का बलात्कार,
यहाँ भ्रष्टाचार! वहाँ भ्रष्टाचार!
अँधी सरकार! चहुँ अँधकार!
भारत बीमार, रोग दुर्निवार।


जन अब हमारी सुन ले पुकार,
पारदर्शिता की यह बयार
बहती हीं जाये, रुक्के न यार
मंथन करें, कर लें विचार,
जनता की माँग जन-लोकपाल,
जन की तलवार जन-लोकपाल
यह नव-संग्राम, दूषण संहार,
भ्रष्टों की हार, जन-लोकपाल।
अन्ना, किरण और केजरीवाल,
समरांत तक मानें न हार
India Against Corruption march (30th Jan, 2011)
कहो बार-बार, चीखो बार-बार,
जन की गुहार जन-लोकपाल,
अंतिम सवाल अब आर-पार,
जन-लोकपाल या मृत्युद्वार,
मद्द में चिंघार, जन-लोकपाल
जन-लोकपाल!  जन-लोकपाल!  – प्रकाश ‘पंकज’

12 टिप्‍पणियां:

  1. जनभावनाओं को अभिव्यक्त करती हुयी कविता . जो अपनी भाव-भंगिमा में आन्दोलन की बेचैनी को लिए हुए हैं ......

    उत्तर देंहटाएं
  2. जन लोकपाल ... जन लोकपाल
    निरंकुश संवेदनाहीन सरकार से मुक्ति के लिए
    सामान्य जनमानस का रण उदघोष
    जन लोकपाल ... जन लोकपाल
    बहुत बढ़िया आदरणीय पंकज जी ....जन मानस की अभिव्यक्ति को एक नई ऊचाई देने के लिए धन्यवाद ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हजार हजारिका ...और यह कविता ...शानदार प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ..एक -एक शब्द ...जबरदस्त ....!! हर बात नयी ऊर्जा के साथ आगे की ओर गति कर रही है !!! बधाईयाँ !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह पंकज जी ... रचना के बहाने लाजवाब खाका खींचा है अपने .. आज की स्थिति का सही आंकलन ... व्यंग के साथ साएर्थक सन्देश ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. priye pankaj ji aapki vani aapki lekhni atyant ojasvi hai....aap badhai ke patra hai....aap se vinamra anurodh hai kalam rupi is shastra ki dhar ko kund na hone dijiyega.....Dhanyavad
    aapka apna....Ravi "Muzaffarnagri"

    उत्तर देंहटाएं
  7. i like it how can i see ur other poem..

    उत्तर देंहटाएं
  8. @बेनामी | Anonymous: कृप्या दाहिनी तरफ देखें ... या इस पन्ने पर आयें http://prakashpankaj.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    मै नइ हु आप सब का सपोट chheya
    joint my follower

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.