सोमवार, 15 फ़रवरी 2010

झूठी है यह "अमन की आशा", फिर काँटों भरी एक चमन की आशा

अमन-अमन हम रटते आये, घाव पुराने भरते आये ,
झूठी पेश दलीलों पर , शत्रु को मित्र समझते आये ।
झूठी है यह "अमन की आशा",  फिर काँटों भरी एक चमन की आशा,
अमन-चैन के मिथ्या-भ्रम में , शीश के मोल चुकाते आये ।  - पंकज

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा बात कही अपने......

    अमन की आशा ............एक मखौल के सिवा क्या है ?

    www.albelakhatri.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. bilkul hi satik baat hai. uttar dene ke bajaye chup rehte hain or fir chate khate hain. times of india ka dhong hai ye aman ki asha.
    dhanyabaad pankaj ji
    -Ashish

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या सच में अमन संभव है .... अच्छा लिखा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा प्रकाश जी...जिस पाकिस्तान के साथ अमन की दोस्ती की इतनी बातें की जाती हैं उसी के खिलाफ मिली जीत हमें सबसे ज़्यादा संतोष देती है, उससे जुड़ी कोई बुरी ख़बर सुनकर हमारा दिन बन जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. haar hamesha seekh hai deta aur jeet vishwash
    har pal chalate rahana rahee.....
    liye naya vishwash.....

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.